जिले में कोलाहल अधिनियम तत्काल प्रभाव से प्रभावशील, जिला मजिस्ट्रेट ने जारी किया आदेश


कटनी (9 अक्टूबर)- जिले में लोक परिशांति बनाये रखने तथा निर्वाचन प्रक्रिया के शांतिपूर्ण परिसंचालन के लिये मध्यप्रदेश कोलाहल नियंत्रण अधिनियम 1985 तथा ध्वनि प्रदूषण (विनमयन एवं नियंत्रण) नियम 2008 के तहत कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट केवीएस चौधरी ने आदेश जारी किया। यह आदेश 7 अक्टूबर 2018 से 15 दिसंबर 2018 तक की अवधि से तत्काल प्रभाव से प्रभावशील कर दिया गया है।
            जारी आदेश में ध्वनि विस्तारक यंत्रों जैसे लाउड स्पीकर, डैक, डीजे इत्यादि के उपयोग व प्रदर्शन को आमसभा, सम्मेलन, जुलूस, कार्यक्रम, जलसा, टीव्ही, एलसीडी या चलित वाहनों पर प्रतिबंधित किया गया है। प्रतिबंधात्मक आदेश की अवधि के दौरान आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध मध्यप्रदेश कोलाहल नियंत्रण अधिनियम 1985 के प्रावधानों के अन्तर्गत दण्डात्मक कार्यवाही करने के निर्देश जिला मजिस्ट्रेट द्वारा दिये गये हैं। तत्काल प्रभाव से प्रसारित किये जाना आवश्यक होने की स्थिति में एक पक्षीय रुप से यह आदेश जारी किया गया है।
            जिला मजिस्ट्रेट ने आदेश के तहत यह स्पष्ट किया है कि संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी/रिटर्निंग अधिकारी, भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों के तहत 48 घंटे पूर्व की सूचना के उपरांत प्रातः 6 बजे से रात्रि 10 बजे तक ध्वनि विस्तारकों के 1/4 वॉल्यूम में ध्वनि स्तर परिवेशी ध्वनि 10 डेसीबल से अनधिक पर अनुमति प्रदान कर सकेंगे। वहीं सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशानुसार रात्रि 10 बजे से प्रातः 6 बजे तक ध्वनि विस्तारक यंत्रों का उपयोग पूर्ण रुपेण प्रतिबंधित रहेगा। यह आदेश तत्काल प्रभाव से कटनी जिले की राजस्व सीमाओं के भीतर प्रभावशील होगा।

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.