शस्त्र अनुज्ञप्तियां तत्काल प्रभाव से निलंबित, थाने में जमा करायें शस्त्र


कटनी (7 अक्टूबर)- कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट केवीएस चौधरी द्वारा जिले के शस्त्र लायसेंस तत्काल प्रभाव से 13 दिसम्बर 18 तक की अवधि के लिए निलंबित कर दिए गए हैं। जिसके बाद शस़्त्र लायसेंसधारकों को अपने शस्त्र संबंधित थाने में अथवा शस्त्र डीलर के पास तत्काल जमा कराने के निर्देश कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट ने दिये हैं। मध्यप्रदेश विधानसभा निर्वाचन 2018 के दृष्टिगत जन सुरक्षा और कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने तथा स्वतंत्र एवं निष्पक्ष निर्वाचन सम्पन्न कराने के मद्धेनजर कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट द्वारा यह आदेश जारी किया गया है।
            कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट द्वारा पारित एक पक्षीय आदेश के माध्यम से शस्त्रधारियों से अपेक्षा की गई है कि वह इस जानकारी को आदेश की तामीली समझें और तदनुसार पालन सुनिश्चित करें। शस्त्र लायसेंस तत्काल प्रभाव से 13 दिसम्बर 18 तक के लिये निलंबित किए गए हैं। केन्द्र, राज्य शासन के विभागों में कार्यरत, सेवानिवृत्त अधिकारी और कर्मचारी, केन्द्र और राज्य शासन के उपक्रमों के अधिकारी-कर्मचारियों और बैंक गार्डो को छोड़कर जिले के समस्त शस्त्र लायसेंसधारकों पर यह आदेश प्रभावशील होगा।
            लायसेंसधारी संबंधित पुलिस थाने के स्थान पर यदि शस्त्र डीलर के पास जमा कराते हैं तो जमा करने की रसीद की फोटोकापी संबंधित थाने में जमा करेंगे। शस्त्र डीलर भी संबंधित थाने में शस्त्र जमा कराने वाले अनुज्ञप्तिधारियों की सूची देंगे। शस्त्र तत्काल आवश्यक रूप से जमा कराये जायें। विधानसभा निर्वाचन 2018 के परिणामों की घोषणा के एक सप्ताह बाद अर्थात 13 दिसम्बर 18 के पश्चात शस्त्र लासेन्स शस्त्रधारियों के पक्ष में स्वमेव बहाल हो जायेंगे। कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट द्वारा उक्त आदेश शस्त्र अधिनियम 1959 की धारा 17(3) (बी) में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए पारित किया गया है। आदेश पारित करते हुए कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट ने जिले के समस्त थाना प्रभारियों को निर्देशित किया है कि वे जमा कराये जाने वाले शस्त्रों का पृथक से रिकार्ड रखें और उन्हें सुरक्षित रूप से अभिरक्षा में रखें।

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.